Screen Reader Access   

निदेशक का संदेश Read in English


प्रो. गगनदीप कांग (एम डी, पीएच डी, एफआरसी पैथ, एफएएएम, एफएएससी, एफएनएएससी, एफएनए, एफएफपीएच), अधिशासी निदेशक

पिछले आठ वर्षों में, टीएचएसटीआई एक आदर्श संस्थान के रूप में विकसित हुआ है जो देश में प्रमुख विज्ञान संस्थानों के बीच अपनी जगह बनाने के लिए तैयार है, लेकिन अपने स्वयं के प्रयासों के माध्यम से और साझेदारी के माध्यम से अनुप्रयोग की खोज को बढ़ावा देने के लिए खोज अनुसंधान से परे होने के कारण अपनी एक अलग पहचान बनाता है। टीएचएसटीआई के पास 'स्टार' परियोजनाओं के रूप में चुने जाने वाले पांच क्षेत्र हैं जहां हम विश्व स्तरीय अनुसंधान और अनुवाद कार्यक्रम विकसित करेंगे। ये हैं i) टीके, ii) मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य, iii) नैदानिक देखभाल के बिंदु, iv) चयापचय रोग और पोषण, और v) नैदानिक और उत्पाद विकास में प्रशिक्षण। इन सभी को विज्ञान अनुसंधान पार्कों पर आधारित एक शैक्षिक-बायोटेक-उद्योग सहयोग के विकास पर केंद्रित एनसीआर बायोटेक साइंस क्लस्टर में एक अंतर-संस्थागत पारिस्थितिकी तंत्र के निर्माण के साथ समानांतर रूप में आगे बढ़ाया जाएगा, जो प्रमुख नवाचार हब के अंदर निहित हैं।

टीएचएसटीआई के पास अपने मिशन का समर्थन करने के लिए अद्वितीय मूलभूत तत्व हैं। उत्साही, अच्छी तरह से प्रशिक्षित अंतःविषय युवा संकाय के साथ, जिनके पास नैदानिक, बुनियादी और अनुप्रयुक्त विज्ञानों को शामिल करने वाली वैज्ञानिक शक्तियों का एक स्पेक्ट्रम है; व्यावहारिक विज्ञान और प्रौद्योगिकी और शैक्षिक - उद्योग नेटवर्किंग के निर्माण और सुदृढ़ीकरण पर ध्यान केंद्रित करने की उनकी प्रतिबद्धता ट्रांसलेशन का समर्थन करने के लिए एक संस्थागत वास्तुकला संरचना और परिवेश को बढ़ावा देती है। मजबूत नैदानिक संपर्क और सहयोग और सीडीएसए के माध्यम से संभव नैदानिक विकास को समर्थन देकर टीएचएसटीआई की अन्‍य सभी डीबीटी संस्थानों के बीच एक अलग पहचान बनती है।

डीबीटी के एक स्वायत्त संस्थान के रूप में बड़ी और कुछ विशेष प्रकार की सार्वजनिक स्वास्थ्य समस्याओं के समाधान खोजने के जनादेश के साथ स्थापित, हम विज्ञान से समाज की सेवा करने के लिए मौजूद हैं। इसलिए, हम ऐसी समस्याओं पर कार्य लेते हैं जो जटिल और बड़ी हो सकती हैं लेकिन जिनके समाधान के लिए हमारे अंतर-विषयात्मक कौशल आवश्यक हैं। परोपकारिता, महत्वाकांक्षा और जवाबदेही टीएचएसटीआई के भविष्य को परिभाषित करते हैं, और हम एक ऐसा वातावरण बनाने के हमारे जनादेश के लिए भागीदारों के साथ कार्य करने के लिए तत्पर हैं जिससे नवाचार का मार्ग सक्षम बनता है और अनुसंधान का अनुवाद नैदानिक व्‍यवस्‍था और वाणिज्यिक उद्यमों में सेवाओं और उत्पादों के रूप में करता है। इससे भारत में सार्वजनिक स्वास्थ्य में सुधार होगा।